Login
  •    +91-1667-226122
  •    mmc1970ftbd@yahoo.co.in
  •    Ratia Road , Fatehabad(125050) - Haryana , India
  • Alumni | Contact us | Career | Lesson Plan
  • Login

    Achievement

    फोटो कैपशन - फतेहाबाद के एमएम कॉलेज में डॉ. अम्बेडकर जयंती पर आयोजित प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत करते डीडीपीओ अनुभव मैहता, साथ हैं प्राचार्य डॉ. गुरचरण दास।
    फोटो कैपशन - फतेहाबाद के एमएम कॉलेज में डॉ. अम्बेडकर जयंती पर आयोजित प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत करते डीडीपीओ अनुभव मैहता, साथ हैं प्राचार्य डॉ. गुरचरण दास।

    'झूठ और पाखंड की, सहमी हर दुकान, भेदभाव से जो परे रच दिया संविधानÓ एमएम कॉलेज में धूमधाम से मनाई गई डॉ. अम्बेडकर जयंती  फतेहाबाद, 14 अप्रैल। 'झूठ और पाखंड की, सहमी हर दुकान, भेदभाव से जो परे रच दिया संविधानÓ कुछ इस तरह की पंक्तियों के माध्यम से विद्यार्थियों ने आज भारत रत्न, बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को याद किया। मौका था फतेहाबाद के मनोहर मैमोरियल कॉलेज में जिला प्रशासन के सहयोग से डॉ. भीमराव अम्बेडकर जयंती पर आयोजित कार्यक्रम था। डॉ. अम्बेडकर जयंती के उपलक्ष्य में कॉलेज में आज वर्कशाप और संगोष्ठी का आयोजन किया गया वहीं विद्यार्थियों ने निबंध व भाषण के माध्यम से अपने विचारों को व्यक्त किया। समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी अनुभव मैहता ने भाग लिया जबकि विशिष्ट अतिथि के तौर पर जिला कल्याण अधिकारी रामलाल व खंड शिक्षा अधिकारी अनिल वोहरा मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज प्राचार्य डॉ. गुरचरण दास ने की। अतिथियों ने डॉ. अम्बेडकर के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया। इस अवसर पर डॉ. अम्बेडकर के जीवन से सम्बंधित भाषण व निबंध लेखन प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिताओं में कॉलेज के अलावा अनेक स्कूलों के विद्यार्थियों ने भी उत्साहपूर्वक भाग लिया। प्राचार्य डॉ. गुरचरण दास ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया। समारोह को संबोधित करते हुए डीडीपीओ अनुभव मेहता ने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर को आज पूरा देश याद कर रहा है। भारतीय संविधान के रचयिता, समाज सुधारक और महान नेता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जयंती भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर में धूमधाम से मनाई जाती है। बाबा साहेब के नाम से मशहूर भारत रत्न डॉ. अंबेडकर जीवन भर समानता के लिए संघर्ष करते रहे। यही वजह है कि अंबेडकर जयंती को भारत में समानता दिवस और ज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। डॉ. अम्बेडकर ने देश में से छुआछूत, जातिवाद को मिटाने के लिए बहुत से आन्दोलन किए। इन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों को दे दिया, दलित व पिछड़ी जाति के हक के लिए इन्होंने कड़ी मेहनत की। डॉ. अम्बेडकर का कहना था कि जीवन लम्बा होने के बजाय महान होना चाहिए। मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाता है। उन्होंने युवाओं से डॉ. अम्बेडकर के जीवन से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। इस अवसर पर राजकीय व.मा. विद्यालय नागपुर के प्रिंसीपल विजय कुमार, बीघड़ से तरूण गेरा, रणधीर सिंह, विजय पाल, एसएस मल्होत्रा, प्रो. महेश मेहता, विनोद कुमार, विकेश सेठी, सुशील कुमार, कमलदीप, तान्या, अंजली, सीमा सिंगला, एनसीसी से ज्योति, नितिन सचदेवा, नेतराम पंत सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। निबंध में अंजली, भाषण प्रतियोगिता में नेहा और प्रदीप ने मारी बाजी निबंध प्रतियोगिता में बैजलपुर स्कूल से दसवीं कक्षा की अंजली ने प्रथम, धांगड़ स्कूल से ग्याहरवीं कर राघवी ने द्वितीय, जाण्डली कलां स्कूल से नौंवी की प्रिया ने तृतीय स्थान हासिल किया। भाषण प्रतियोगिता में राजकीय व.मा. विद्यालय गाजूवाला की दसवीं की छात्रा नेहा ने प्रथम, डीएवी स्कूल फतेहाबाद की वृन्दा ने द्वितीय तथा बैजलपुर स्कूल के नौंवी की तमन्ना ने तृतीय स्थान हासिल किया। कॉलेज स्तर के विद्यार्थियों की भाषण प्रतियोगिता में बीए द्वितीय वर्ष के प्रदीप ने प्रथम, निर्मल रानी ने द्वितीय तथा बीए फाईनल की प्रिया ने तृतीय स्थान हासिल किय। निर्णायक मंडल की भूमिका राजकीय उच्च विद्यालय दौलतपुर के श्रीभगवान, ढाणी मियां खां स्कूल से ज्योतिसरूप, धांगड़ से अशोक कुमार, गिल्लाखेड़ा स्कूल से सुदामा शास्त्री, खान मोहम्मद स्कूल से अश्वनी कम्पानी ने निभाई। विजेता विद्यार्थियों को नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

    यूनिवर्सिटी वार्षिक डायरी
    यूनिवर्सिटी वार्षिक डायरी

    कल चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय जाना हुआ। बेहद गर्वित और हर्षित करने वाली यादगार जो मैं संजोकर लाया हूं, वो है ये यूनिवर्सिटी डायरी की तस्वीर। ये लिखते हुए बाग-बाग हूं कि विश्वविद्यालय अपनी जिस वार्षिक डायरी में मात्र एक या दो रंगीन पेज में अपने महाविद्यालयों की उपलब्धियां अंकित करता है उन रंगों में एक तस्वीर के रूप में हमारे महाविद्यालय की उपलब्धि दर्ज है जिसमें हरियाणा टूरिज्म के चैयरमेन श्री जगदीश चौपड़ा (कार्यक्रम मुख्यअतिथि) हमें ट्रॉफी सौंप रहे हैं। युवा महोत्सव की तैयारियों में जिन स्टाफ सदस्यों ने रात को रात और दिन को दिन न समझते हुए जो एकमेक जी-तोड़ मेहनत की; ये उसी का परिणाम है। ऐसी उपलब्धियों का श्रेय पूरे स्टाफ को जाता है। जब आप सब किसी बड़े मुकाम पर पहुंच रहे होओगे तब भी आपकी ये मेहनत कॉलेज के इतिहास में दर्ज होकर आपकी याद दिलाती रहेगी। आगे भी ऐसे तमाम तरह के सहयोग की आशा करते हुए आप सब के नाम शुभकामनाएं लिखता हूँ। आपका गुरचरन दास